कोलकाता: पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के छठे चरण के लिए जारी मतदान के बीच भाजपा प्रत्याशी भारती घोष पर स्थानीय लोगों ने दो बार कथित तौर पर हमला किया. ये हमले उस वक्त किए गए जब भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व अधिकारी ने घाटल लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में रविवार को मतदान केंद्रों में प्रवेश का प्रयास किया. 

पथराव के दौरान घायल हुआ सुरक्षा गार्ड
हमले की एक घटना में पथराव के दौरान उनका एक सुरक्षा गार्ड घायल हो गया. राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने घटनाओं के संबंध में पश्चिमी मिदनापुर के जिला मजिस्ट्रेट से रिपोर्ट मांगी है. अधिकारियों ने बताया कि घोष को मामूली चोटें आईं जब महिलाओं के एक समूह ने उस वक्त उन पर कथित तौर पर हमला कर दिया जब वह सुबह केशपुर इलाके में बने मतदान केंद्र में भाजपा के एक एजेंट को भीतर ले जाने का प्रयास कर रही थीं. 

हालात को काबू करने के लिए पुलिस ने किया लाठीचार्ज
इसके बाद उनके काफिले पर बम फेंके गए एवं पथराव किया गया जब ईवीएम से छेड़छाड़ की शिकायत मिलने के बाद वह केशपुर से दोगछिया के अन्य मतदान केंद्र जाने के लिए रवाना हुईं. अधिकारियों ने बताया कि पथराव में उनका एक सुरक्षा गार्ड घायल हो गया और एक वाहन क्षतिग्रस्त हो गया जिसके बाद सुरक्षा बलों को लाठीचार्ज करना पड़ा. 

तृणमूल और बीजेपी लगा रहे एक-दूसरे पर आरोप
यह भी आरोप लगा कि भाजपा प्रत्याशी के साथ मौजूद केंद्रीय बलों के कर्मियों की तरफ से गोली चलाए जाने की घटना में तृणमूल कांग्रेस का एक कार्यकर्ता घायल हो गया. हालांकि भाजपा प्रत्याशी ने इस आरोप को खारिज कर दिया. घोष ने कहा, “तृणमूल कांग्रेस की ओर से मुझे रोकने का जानबूझ कर प्रयास किया गया. उन्होंने मुझ पर हमला किया और मैं घायल हुई. यह पूरी तरह झूठ है कि मेरे सुरक्षा गार्डों ने गोली चलाई.” 

एक वरिष्ठ चुनाव अधिकारी ने कहा, “हमने भाजपा प्रत्याशी पर कथित हमलों को लेकर जिला मजिस्ट्रेट से रिपोर्ट मांगी है. एक बार रिपोर्ट मिलने पर हम जरूरी कदम उठाएंगे.” मुख्य चुनाव अधिकारी ने घोष के केशपुर के पिकुर्दा में एक मतदान केंद्र के भीतर वीडियोग्राफी करते देखे जाने के संबंध में भी रिपोर्ट मांगी है. राज्य के मंत्री एवं टीएमसी नेता फरहाद हकीम ने दावा किया कि मतदान शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा था जब भाजपा ने हिंसा फैलाई.