भोपाल
 भोपाल में कथित तौर पर थाने में पुलिस की पिटाई से युवक शिवम मिश्रा की मौत के बाद राजनीति गर्मा गई है। खाकी पर लगातार सवाल उठ रहे है, परिजनों द्वारा न्याय की मांग की जा रही है।इसी बीच आज पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी परिजनों के साथ आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर राजधानी भोपाल में धरना दे रहे है।शिवराज ने एक बार फिर मुख्यमंत्री कमलनाथ को चेतावनी दी है। शिवराज ने कहा है कि अगर एक हफ्ते के अंदर पीड़ित परिवार की सभी मांगें नहीं मानी गईं तो जनता सड़कों पर उतर आएगी और बड़ा आंदोलन करेगी।

शिवराज ने कहा कि ह्रदय विदारक हत्या के विरोध ने अपरधियों को सजा दिलाने के लिए और शिवम के परिवार को न्याय दिलाने के लिए यहां इकट्ठा हुए है। शिवम के माता पिता दिव्यांग है, मां सही से बोल नही पाती है, शिवम की बहन को अस्पताल भेजना पड़ा। भोपाल राजधानी है बावजूद इसके मुख्यमंत्री और डीजी बैठे है ऐसी घटना को मानव शर्मसार करती है। पुलिस से जघन्य अपराध करने वाले हत्यारे पकड़े नही जाते है औऱ अपनी दादागिरी शिवम जैसे पर निकाल रही है।

वही चेतावनी भरे लहजे में शिवराज ने कहा कि सुनलो कमलनाथ , बाला बच्चन ये मिश्र की साइबर विभाग में काम करने वाले उनके बेटे के साथ ये किया है। बैरागढ चौकी ले गए चौकी में पिटाई की गई मत मारो हमारा चेकअप करा दो । मोबाइल चेन पर्स कहा गया जबाब दे सरकार। बैरागढ के सिविल अस्पताल के डॉक्टर कह रहे है, जानवरों जैसे  पिटाई की गई है। एकलौता बेटा था पीट पीट का निर्जीव कर दिया,  बेजान कर दिया है। जब तक न्याय नहीं मिलेगा तब तक अस्थि विसर्जन नहीं करेंगे । इस मौके पर शिवराज के साथ उनके पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता और पत्नी साधना सिंह भी धरना स्थल पर मौजूद है।

परिजनों से सरकार से की ये मांग

खास बात ये है कि इस धरने मे शामिल होने के लिए शिवराज ने खुद लोगों से ट्वीटर के माध्यम से  पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की अपील की है। शिवराज ने पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है।वही परिजनों ने हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस से न्यायिक जांच कराने की मांग की है।वही उन्होंने शिवम की बहन को सरकारी नौकरी देने ,दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या,लूट का केस  और घटना के लिए जिम्मेदार वरिष्ठ अफसरों को उस क्षेत्र से हटाने की मांग की है।