फरीदाबाद । एक लिफ्ट कंपनी के डायरेक्टर विनीत की आत्महत्या के मामले में पुलिस जांच में सामने आने वाला हर तथ्य हैरान करने वाला है। उनके बेडरूम के शीशे पर सूइसाइड नोट टेप से चिपका मिला, घर में गैस सिलिंडर व मास्क मिला। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में इस बात का जिक्र नहीं है कि सिलिंडर में कौन सी गैस थी। ऐसे में इस केस में पुलिस इतना उलझ गई है कि 24 घंटे बाद भी किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। वहीं, मृतक के मोबाइल और परिवार के बयान के आधार पर पुलिस इस केस को सॉल्व करने में लगी है। सोमवार रात सेक्टर-45 में हरेकृष्णा अपार्टमेंट स्थित फ्लैट में विनीत (49) व उनकी पत्नी के अलावा दोनों बच्चे थे। पुलिस के अनुसार बेटी (12) व मां एक कमरे में थी, जबकि बेटा (16) अलग व विनीत अलग कमरे में। देर रात तब पत्नी जगीं तो देखा कि विनीत के मुंह पर मास्क लगा था। जब उन्हें अस्पताल ले जाया गया, तो उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। उनकी पत्नी एक एमएनसी में कार्यरत हैं। इसी सोसायटी उनकी बहन का भी घर है।
अब तक हुई जांच के मुताबिक घर के किसी भी सदस्य ने विनीत को सिलिंडर व मास्क कमरे में लाते हुए नहीं देखा। न ही ऐसा उनकी बातों से किसी को लगा। सिलिंडर कहां रखा था यह अभी पता नहीं चल सका है। पुलिस के अनुसार सिलेंडर कार में रखा हो सकता हो, जिसे वह रात में परिवार के सो जाने पर उठाकर लाए हों। अमूमन सूइसाइड नोट हाथ से लिखे होते हैं, लेकिन विनीत का लेटर पूरे एक पेज का टाइप किया हुआ व रंगीन प्रिंटेड है। जिसमें आखिर में स्माइली की इमोजी भी है। ऊपर 3.30 एएम लिखा होने के साथ साइन भी है। इसमें किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया गया है। पुलिस का मानना है कि कई दिन पहले यह लेटर लिखा गया होगा। जिस गैस सिलिंडर से मास्क लगाकर आत्महत्या की बात सामने आ रही है, उसमें गैस कौन सी है यह अभी स्पष्ट नहीं है। पुलिस इसकी जांच के लिए सिलिंडर सील कर एफएसएल भेजेगी। पुलिस के अनुसार सिलिंडर में नाइट्रोजन गैस हो सकती है। केस की जांच कर रहे सेक्टर-46 चौकी इंचार्ज एसआई राजबीर सिंह ने बताया कि पोस्टमॉर्टम की शुरुआती रिपोर्ट आ गई है। इसमें शरीर पर कहीं भी चोट के निशान नहीं मिले हैं। विसरा प्रिजर्व कर एफएसएल मधुबन भेजा गया है। वहां से आने वाली रिपोर्ट में ही मौत का कारण सामने आएगा।