खरगौन: मध्य प्रदेश के खरगौन में भाई-बहनों के अटूट बंधन के त्योहार रक्षाबंधन को लेकर मुख्य बाजारों में काफी रौनक है. बहनों द्वारा राखी खरीदने के लिए दुकानों पर काफी भीड़ लग रही है. खासकर गोलबिल्डिंग, सर्राफा, कपड़ा मार्केट एवं एमजी रोड पर काफी रौनक बढ़ी हुई है. खरगौन में रक्षाबंधन पर्व का उत्साह ओर अधिक इसलिए बढ़ जाता है क्योंकि यहां खरगौन, सनावद, महेश्वर और बड़वाह में कई मुस्लिम परिवारों द्वारा हाथों से बुनकर राखियां बनाई जाती हैं. मार्च माह से ही यह परिवार थोक में राखी बनाने की सामग्री इंदौर, अहमदाबाद एवं मुंबई से खरीद लाते है. पांच माह पहले से ही राखी बनाना शुरू कर देते हैं.

वर्षों से इन परिवारों द्वारा खानदानी रूप से राखियां बनाई जा रही है. जिसमे डायमंड, जरदोशी, टेडीबियर, गुड्डा, रेशमी, तिरंगा, मोदी राखियां बहुत ही पसंद की जाती है और बाजार में उसकी डिमांड रहती है. इन राखियों की डिमांड का मुख्य कारण यह भी रहता है. यह राखियां खूबसूरत होने के साथ सस्ती भी रहती हैं. व्यापारी बताते है कि कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने से इस वर्ष तिरंगा और मोदी राखी की डिमांड खासी बनी हुई है. मुस्लिम महिलाओं द्वारा यह राखियां भी खूब बनाई गई हैं. डिमांड होने से उनमें भी खासा उत्साह है. रक्षाबंधन में दो दिन बाकी हैं ओर तिरंगा एवं मोदी राखियां दुकानों पर लगभग बिक चुकी हैं. दुकानदारों द्वारा बताया गया कि महंगी और फैंसी राखियों के इस दौर में हाथों से बनाई गई सस्ती सुंदर राखियों की खरगौन में डिमांड वर्षों से है.